जंगल में भटकती आत्मा Real Ghost Stories in Hindi

जंगल में भटकती आत्मा | Real Ghost Stories in Hindi

Posted by

Real Ghost Stories

Post Link:

Real Ghost Stories in Hindi

  • जंगल में भटकती आत्मा
  • भूत की सच्ची घटना एक कहानी
  • भूतों की खौफनाक कहानी

जंगल में भटकती आत्मा | भूतों की खौफनाक कहानी

कहने को तो हम २०११, आधुनिक युग में जी रहें हैं । जहाँ सिर्फ विज्ञान की बात होती है । और विज्ञान के आलावा यहाँ सब कुछ अशक्य है । और एक यहाँ है की यहाँ सब बात करो लेकिन भूत प्रेत की बात करेंगे तो आपकी सब हास्य उड़ाएंगे क्यूंकि यहाँ भूत प्रेत की बात करना अंधविश्वास कहलाता है। दोस्तों में भी ऐसा ही सोचता था मगर मेरे एक हादसे के बाद मेरी सोच बदल गयी है । परंतु मेरी सोच बदल जा ने से क्या होगा जब तक तुम लोग अपनी सोच नहीं बदल पाएंगे तो । इसलिए मेरी कहानी को पढ़ो और कास तुम नहीं अपनी सोच बदल पाओ । दोस्तों में आपको मेरे साथ जो हादसा हुआ वो में आपको बताने जा रहा हूँ। दोस्तों मेरा नाम किसन है ।

में गुजरात में रहने वाला लड़का हूँ । दोस्तों ये कहानी तब की हैं जब में ९ वी कक्षा में पढ़ाई कर रहा था । तब हमारे स्कूल में एक प्रवास का आयोजन हुआ । मेने भी उनमे जाने का मन कर दिया । और घर में सबने हा भी कर दी थी । और हमको उस दिन सुबह ११ बजे स्कूल में बुलाया था । उस प्रवास के लिए हमारे स्कूल २ बस का आयोजन किया था । हमारी स्कूल ने हमको गोवा बीच पर ले जाने को कहा था क्यूंकि हमारा प्रवास वेकेशन में था । आप सब जानते हैं की वेकेशन में गर्मिया कितनी ज्यादा होती है और गर्मियाँ में बीच पर गुमने में जो मजा आया वो किसी में नहीं आता है । तो मित्रो हमारी प्रवास की तैयारी हो गयी थी बस हम निकलने ही वाले थे । कुछ ही देर बाद हमारी दोनों बस जाने के लिए रवाना हो गयी । और हमारी बस में हमारे दोस्तों और मेडम थे । हम सरे दोस्त बस में गाते, गुनगुनाते, हस्ते, खेलते और एक दूसरे की मजाक करके जा रहें थे । और हमारी एक बस है वो हमारे से आगे थी । और हम पीछे रह गए थे । और ऐसा हुआ की हमको रास्ते में एक घने जंगल में से गुजरना पड़ा था ।

उस रस्ते पर दूर दूर तक कोई इंसान का नामो निशान नहीं था । उस जंगल में हमारे इलावा कोई नहीं था । और जंगल में बहुत ही पेड़ थे । उस रास्ते से गुजरते वक्त मुझे अजीब सी घुटन महसूस होने लगी थी । और जंगल बहुत ही डरावना था और ऐसा हुआ की हमारी बस का एक टायर को अचानक पंचर हो गया और में तो डर गया था । फिर हमारा ड्राइवर हमको इस जंगल में छोड़कर वो हाईवे पर टायर पंचर करने गया था और हम फ्रैंड्स और सर और मेडम बस से निचे उतरे और आस-पास गुमने लगे थे । और हम जब जंगल में गुमने गए तो वह सिर्फ जंगली जानवरों की आवाजे सुनाई रही थी । तब ही हम वह गुम रहे थे लेकिन वहा अचानक से किसी की रोने की आवाजे सुनाई रही थी तो में और मेरे मित्रो वहा देखने के लिए चले गए और हम वहा जाने के लिए नजीक जाया करते तो वो आवाजे और ज्यादा चिल्ला ने लगती थी ।

और एक दम से तेज पवन आने लगता था और पूरा जंगल इस पवन के कारन जैसे हवा में उड़ रहा हो ऐसा लगता था । और हम जब वहा जा के देखा तो हमारे होश ही उड़ गए थे । वहा एक औरत वाइट साड़ी पहनी हुई थी और इसके बाल एक दम खुले हुए थे । और वो डरावनी लग रही थी इसके हाथ के नाख़ून बड़े बड़े और बहुत ही लम्बे थे। और वो जोर जोर से चिल्लाकर रो रही थी । में और मेरे दोस्तों वह से भाग गए थे और आकर हमारी बस में बैठ गए ।

जंगल में भटकती आत्मा Real Ghost Stories in Hindi

भूत की सच्ची घटना एक कहानी

हमने मेडम और सर को कुछ नहीं बताया और हमारी बस का टायर पंचर हो गया और हम वह से निकल जाने वाले थे तभी मेने पीछे मूड कर देखते वो भूतनी हमारा पीछा कर रही थी में डर गया था । और वो भूतनी केवल मुझे ही दिखाई दे रही थी । क्यूंकि मेरे दोस्तों तो वो भूल ही चुके थे । और ड्राइवर ने कहा की आगे ४०० मीटर दुर पर एक ढाबा है वही चा – नास्ता कर लेते है । हम चा नास्ता करने की लिए उतरे तो वो भूतनी फिर मेरे पास आकर बेथ गयी मेरे तो डर के मरे रोंगटे खड़े हो गए थे और में जोर से चिल्लाया और वो भूत मेरे चिल्लाने से गायब हो गया था परंतु मेरे चिल्लाने से क्या फायदा वो भूत सिर्फ मुझे ही दिखाई देता था । तभी वहा दो बूढ़े आदमी कुछ आपस में बोल रहे थे की अक्सर इस जंगल में ऐसी चीखें अति रहती है और उस पर कोई ध्यान नहीं देता है । में उन लोको की बात सुन कर बहुत ही डर गया था ।

और मुझे कुछ अजीबसा महसूस होने लगा था और फिर हमारा चाय नास्ता ख़तम होने के बाद हम वहा से निकल रहे तब मेने पीछे मूड कर देखा तो मुझे उस ढाबे के पास पेड़ के पत्तो से लहराती सफ़ेद आकृतिया दिख रही थी । और हम आगे जाने के लिए रवाना हुए तो मेने मेरी बात सब को कही परंतु मेरा कोई भी यकीं नहीं करता था , फिर ड्राइवर ने बोलै की ये सच बात है और फिर से हम वही ढाबे पर वापस आये तो वहा कुछ नहीं था सब नष्ट हो गया था । तभी सब चकित हो गए और डरने लगे और में सबसे ज्यादा डर रहा था । फिर हमने वहा से बस भगा डाली तो हमारे रस्ते में तीन बार टायर पंचर हो गया था इस लिए हमने अपने प्रवास को आधे से वापस स्कूल में लेकर आ गए थे ।

दोस्तों मुझे आज भी वो गोवा की टूर यद् है जब भी में इसके बारे में सोचता हु तो मेरे हाथ-पाँव कांप जाते है। और बस एक ही सवाल गुम रहा है की वो औरत कौन थी ? और वो औरत भूत थी तो वो कहा चली गयी मुझे ये सब सवाल मेरे दिमांग में गुमा करते थे । तो दोस्तों आपको ये मेरे साथ बीती हुई घटना किसी लगी? जो आपको अच्छी लगे तो इसे लाइक या कमेंट करना न भूले क्यूनि आप लाइक करके हमारा साथ देंगे तो हम आपको ऐसी अनहोनी घटना ये सुनाएंगे । आपको हमारी कहानी पढ़ने की लिए धन्यवाद ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *