भटकती चुड़ैल की कहानी bhatakti chudel ki real kahani in hindi

भटकती चुड़ैल की कहानी | bhatakti chudel ki real kahani in hindi

Posted by

bhatakti aatma bhatakti chudel ki real kahani

भूत-प्रेत जैसी बातों पर यकीन नहीं करने वाले लोग कभी इस बात पर विश्वास नहीं करते की इंसानी दुनिया में भी कुछ ऐसी पारलौकिक शक्तिया होती है. उनके लिए यह सब सिर्फ मनगढ़त और काल्पनिक तथ्य है जिसे सिर्फ मनोंरजन के तौर पर ही प्रयोग किया जाता है . ऐसे में जाहिर है वह व्यक्ति सच का पता लगाने के लिए कुछ ना कुछ इंतिजाम तो जरूर करेंगा और हो सकता है उन इंतिजामो में उसे वो भी दिख जाए जिसके बारे में वह कभी सोच भी नहीं सकता था. ऐसी ही कुछ घटना मेरे साथ बन चुकी थी. में आपका ज्यादा समय बर्बाद न करते हुए मेरे साथ बीती हुई घटना की स्टोरी आपके सामने शेयर करना चाहता हु इस लिए कृपा करके मेरी कहानी आप ध्यान से पढ़िए.

मेरा नाम अमित है! में आप सब को एक आँखों से देखा हुआ किस्सा सुनाने जा रहा हूँ! बात ४ – ५ साल पुराणी है ! उस समय हम करावल नगर दिल्ली में रहते थे! जब में १० वी कक्षा में पढ़ाई केर रहा था। और मेरी १० वी बोर्ड की एक्साम ख़तम करने के बाद में और मेरा परिवार गाँव में वेकेशन मानाने के लिए गए थे। गाँव में हमारा एक घर वहा पर मेरे दादा, दादी और कुच संबधी रहते है । हम लोग हर वेकेशन गाँव में रहने के लिए जा ते थे । और हमारा घर एक मोहल्ला में है । कुछ दिन से हमारे मोहल्ले में एक चुड़ैल के घूमने की अफवाह फैली हुई थी । कुछ लोगो का कहना था की उन्होंने एक डरावनी औरत को रात के समय घूमते हुए देखा है । वह कभी घरों की छत पर तो कभी गलिओं में घूमती हुई दिखाई देती थी । इस वजह से लोगों ने छत पर सोना बंध कर दिया था। अँधेरा होते ही गालिया सुनसान हो जाती थी। एक दिन मुहल्ले के लोगों ने मिलकर रात भर पहरा भी दिया, मगर कोई नहीं आया !

भटकती चुड़ैल की कहानी bhatakti chudel ki real kahani in hindi

tag:

  • ghost
  • real ghost of story
  • indian ghost real stroy
  • chudel pretatma kahani
  • चुड़ैल in english Meaning Witch

भटकती चुड़ैल की कहानी

मुझे इस बात पर बिलकुल नहीं था। जो भी चुड़ैल की बाटे करता था, में उसका मज़ाक उड़ाता था । मेरा मानना था की यह लोगों का वहम है या तो कोई इन्सान लोगों को डरा रहा है। में भी कैसे इन लोको की बात पर विश्वास केर लेता क्यूँकि में शहर में रहने वाला लाडखा था और शहर में ऐसी बात मेने कभी सुनी ही नहीं थी के चुड़ैल होती है पर इस कहानी में जब चुड़ैल को देखता हु तो मेरे रोंगटे खड़े हो जाते है वो इस कहानी को आगे पढ़ने पर तुम को ख्याल आजायेगा। एक दिन की बात है जब गाँव में रात को लाइट गई हुई थी । उस दिन गर्मी भी बहोत ज्यादा थी और ज्यादा गर्मी के कारन लोगों छत पर सोने के लिए जाते थे । और उस दिन जब लाइट गयी तो कोई छत पर सोने के लिए जाते नहीं थे क्योंकि सब को बस एक डर था चुड़ैल आ जाएँगी ऐसा डर ने से कोई छत पर जाने की हिम्मत भी नहीं करते थे ।

Pret Atma Aur Dhongi Baba Ghost Stories in Hindi

मुझे भी ऊपर छत पर जाने की मनाही थी । मगर जब गर्मी सहन नहीं हुई, में अपना बिस्तर उठा कर चुपचाप से छत पर सोने के लिए चला गया । छत पर ठंडी हवा के कारन मुझे नींद तो आ गयी लेकिन रात के २ बजे के बाद ऐसी आवाजे आने लगी जैसे सुमसान सड़क पर आ रही हो । में थोड़ा सा डर गया था परन्तु साई का नाम लेकर सोने जा रहा था मगर ये आवाजे तो रुकने का नाम तक नहीं लेना चाहती हो और जोर जोर से किसीकी चिल्लाने की आवाज आने लगी में तो सचमुच का डर गया था । तभी मेने हिम्मत न हारते हुए खड़े होकर देखा तो मेरी आँखों खुली की खुली रह गयी ।

Witch hindi stroy

एक औरत छत की मुंडेर पर बैठी थी । उसने व्हाइट रंग की साड़ी पेहनी हुई राखी थी । और उसके हाथ में मॉस का टुकड़ा था, जिसे वह खा रही थी। उसका चेहरा दूसरी तरफ था में तो पहले अपने आप पर यकीन नहीं कर रहा था परंतु मेने उसको पूछा की आप कौन हो तो उसने अपना सर गोल गोल गुमाने लगी , और में तो डर गया था । और उसके बड़े बड़े जानवरों जैसे हाथ थे । ये सब देखते ही मेरी हालत ख़राब हो गयी थी । में अपना बिस्तर वही छोड़ के बजरंग बलि का नाम लेते वह से निचे भाग आया और दरवाजा अच्छी तरह बंद कर दिया। और उस दिन में रात को सोया भी नहीं था मुझे बस वो चुड़ैल का गुमता हुआ सर नजर आ रहा था । और उस दिन से मुझे भी चुड़ैल वाली बात पर विश्वास हो गया था ।

Chudel Kahani Real Ghost Stories in Hindi

और उस बात को मेने मेरे परिवार को बताई और हमने गाँव में न रहने का निर्णय बनाया था और हम अपने घर दिल्ली वापस आ गए थे । में अपने घर वापस आ गया तो भी वो चुड़ैल वाली बात मुझे और डरती थी । अगले कुछ दिनों तक चुड़ैल देखे जाने की कई अजीब गरीब घटनाए मेरे साथ बानी रहती थी फिर वो चुड़ैल दिखनी बंद हो गयी और मेरा डर धीरे धीरे से कम हो गया था । मगर मेने जो देखा उसे में कभी नहीं भूल सकता । और वो कहानी तो में भूल ही नहीं सकता वो अभी भी मेरे दिमांग में गुमा कर रही है।

दोस्तों आशा करता हु की मेरी ये कहानी आपको जरूर पसंद आयी होगी दोस्तों हमें कोमेंट करके जरूर बताये । और आपके पास कोई स्टोरी है तो हमें जरूर कमेंट या शेयर करे आपकी स्टोरी हम अपनी साइट पे शेयर करेंगे । आपने हमारी स्टोरी पढ़ ने लिए आपका बहोत बहोत धन्यवाद ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *