Real Ghost Stories in Hindi चुड़ैल भूत की कहानियाँ

Real Ghost Stories in Hindi | चुड़ैल भूत की कहानियाँ | Real Chudel Kahani

Posted by

Hotel In Goa Real Ghost Chudel Pret Atma ki Hindi Kahani

  • चुड़ैल भूत की कहानियाँ
  • भूत-प्रेत की कहानियाँ
  • chudel bhoot ki hindi kahani
  • real ghost
  • ghost
  • Real Ghost Stories in Hindi
  • Ghost Stories
  • real life ghost stories
  • short ghost stories hotel goa
  • ghost stories 2018 new hindi kahani

Real Chudel Kahani Ghost Stories in Hindi

मेरे दोस्त का नाम नीलेश है और वो गुजरात के छोटे से गोव में रहने वाला है। हम दोनों अच्छे दोस्त है। हम दोनों कुछ सालो बाद मिले थे। क्योकि मैं पठाई करने विदेश चला गया था, और वो यंहा नौकरी कर रहा था। वो मेरे भाई से भी बढ़कर था। और उसकी सादी को २ हप्तो ही हुए थे, और उसके साथ ऐसी घटना बन चुकी थी जो आप सुनेगे तो आपके रोंगटे खड़े हो जायंगे। उसने मुझे जो स्टोरी बताई थी वो मैं आपके सामने शेयर करना चाहता हु । मैं आपको इसके साथ बीती हुई घटना बताने जा रहा हु।

कुछ दिनों पहले की बात है जब नीलेश ने मुझे बताया था की इसकी बहन की मौत हो गयी है। ये सुनकर मै भी बहोत दुखी हो गया और मेने इसकी मौत का कारन पूछा तो उसने पूरी घटना मुझे सुनाई। कुछ दिन पहले नीलेश इसकी बहन रीमा और पत्नी नीतू के साथ गोवा बीच पे गुमने गए थे। और वो लोग गोवा मैं ३ या ४ दिन गोवा में सभी जगा गुमे और खूब खाया पिया और मजे भी किये। मेरा दोस्त नीलेश अपनी गाड़ी से जब वापिस आ रहे थे तभी रास्ते मे काफी रात हो गयी थी। रास्ते मै इसकी बहन की तबियत खराब हो गयी और उसे काफी ठण्ड लग रही थी। और रास्ता काफी सुमसान था जहा कोई भी इंसान नहीं था। और वह जंगल और पहाड़ी वाला इलाका था, अपने अशपाश केवल जाड़िया ही देखाई दे रही थी। हमारा घर अभी भी 4०० किमी दूर था और रास्ते मै कोई भी रुकने की जगह नहीं मिल रही थी थोड़ी देर बाद के बाद हमें एक होटल दिखाई दी तो नीतू ने होटल पे रुकने को बोला। उस होटल के काउंटर पर हमने जब रूम के लिए पूछा तो इसने बताया की सभी रूम फूल थे क्योकि उस रास्ते पर केवल वही एक ढंग की होटल थी। लेकिन तभी होटल के मैनेजर ने बताया की एक रूम खाली था रूम नं १३। हमने उस समय अंध विश्वासी वाली बातो को न सोचकर रूम ले लिया जैसा की आप लोग जानते है की रूम नं १३ को असुभ माना जाता है और कई होटल मै इस नंबर का कोई रूम नहीं होता है लेकिन ये होटल कई साल पुराण था।

Real Ghost Stories in Hindi चुड़ैल भूत की कहानियाँ
Real Ghost Stories Pret Atma ki Hindi Real Chudel ki Kahani

Post Link:

जैसे ही वो तीनो उस रूम मै गये तो उन्हें कुछ अजीबसा महसूस हुआ था। उस रूम की कंडीसन तो ठीक थी लेकिन ऐसा लग रहा था जैसे बरसो से यहाँ कोई रहने नहीं आया हो। उन्होंने कुछ ज्यादा नहीं सोचा। अब वो अपनी बहन रीमा के लिए काउंटर पे पेनकिलर लेने को गया। काउंटर से जैसे टेबलेट लेकर जैसे ही रूम मै आया तो देखा की उसकी बहन बालकनी मै खड़ी होकर बातें कर रही थी नीलेश ने सोचा की नीतू और उसकी बहन दोनों बालकनी मै बातें कर रही है लेकिन जैसे ही इसके पास गया तो उसकी बहन के आलावा कोई भी इसके पास नहीं था। उसने उसकी बहन को पूछा की तुम किसे बात कर रही हो तो उसने सर हिलाकर मना कर दिया। तभी नीतू वॉशरूम से आयी। नीलेश गबरा गया की अगर नीतू वॉशरूम मै थी तो रीमा किसे बात कर रही थी। नीलेश ने रीमा को टेबलेट दी और सो जाने को कहा। नीलेश ने बताया की ये देख के मेरे पावो तले जमीन सिरख गयी हो। अब नीतू और रीमा दोनों बेड पर सो गये और नीलेश बहोत देर तक सो नहीं पाया उसे दर सा लग रहा था और खिड़कियों में से अजीब सी आवाजे आ रही थी ऐसा लग रहा था की कोई हम पे नजर रख रहा हो बाद में नीलेश साई का नाम लेके सो गया। सुबह जब क्लीनर कमरे की सफाई करने आया तो दरवाजा खुला था। और वो जब अंदर गया तो देखा की कमरे मै खून था और रीमा मर चुकी थी। क्लीनर ने जोर से चिल्लाया तो मेरी नींद खुल गयी और देखा की रीमा की मौत हो चुकी थी और नीतू बेहोस हो गयी थी। नीलेश जोर जोर से रोने लगा और मेनेजर ने तुरंत एम्बुलेंस को बुलाया और दोनों को हॉस्पिटल ले गए। रीमा तो मर चुकी थी। लेकिन नीतू को होस आया तो इसके पीछे इसकी बहन की आत्मा थी जो इसे बोल रही थी तूने मुझे मार दिया , वो कहकर वो गायबहो गयी।

real ghost Stories hindi kahani

नीलेश ने नीतू से सारी घटना के बारे मै पूछा तो नीतू ने कहा की में जब पानी पिने की लिए उठी तब रीमा वो खिड़खी के पास कुछ बड़बड़ा कर रही थी तब मेने उसे पूछा तो उसने मेरे सर पर कुछ मार दिया और मैं बेहोस हो गयी इसके बाद क्या हुआ मुझे मालूम नहीं है। इसके बाद नीतू और नीलेश दोनों हॉस्पिटल से वापिस होटल में पहुंचे तो देखा की मैनजेर से बात कर ने गए तो मैनेजर की भी मौत हो गयी थी तभी क्लीनर ने बताया की तुम जो रूम मै रुके थे वहा दो खून हु चुके थे और मैनेजर ने पैसे की लालच मै आपको रूम दे दी थी। तभी नीलेश को सभी बात समज में आयी। उसके बाद नीलेश अपनी बहन के साथ घर एम्बुलेंस से घर पहुंच गए और तभी से नीलेश और वो सदमे मै चला गया और कभी किसी होटल मै नहीं रुका ।

दोस्तों आशा करता हु की मेरे दोस्त की कहानी आपको जरूर पसंद आयी होगी दोस्तों हमें कमेंट करके जरूर बताये। और आप के पास कोई स्टोरी है तो हमें जरूर कमेंट में शेयर करे आपकी स्टोरी हम अपनी साइट पे शेयर करेंगे 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *