चुड़ैल की कहानी | Real Chudel Ghost Story in hindi

Posted by

चुड़ैल की कहानी Chudel Ghost Stories

हेलो दोस्तों में आपके सामने फिर से एक मजेदार कहानी लेकर आया हु ये कहानी सुनोगे तो आपके रोंगटे जरूर खड़े हो जायेंगे क्यूंकि ये कहानी कोई सीरियल या मूवी की नहीं है तो दोस्तों में आपका ज्यादा वक्त बर्बाद ना करते हुए अपनी इस कहानी पर आता हु । दोस्तों मेरा नाम राघव है और में सूरत में रहने वाला हु मेने अभी अभी १२ वि एग्जाम ख़तम की हुयी है तो मुझे घर पर पढ़ने को कोई नहीं कह रहा था इसलिए में अपने मस्ती में गुम रहा था फिर एक दिन हम सब एक साथ होकर मूवी देखने का प्लान किया फिर सब ने अपने अपने घर से रजा लेकर मूवी देखने का प्लान किया फिर हम सब ने रविवार को फिल्म देखने जाने का प्रोग्राम तय किया और हम सब दोस्त रविवार का बहुत बेसबरी से इंतिजार कर रहे थे और आखिर में रविवार आ भी गया

और हम सब ने रात को ८ बजे जाने का प्लान किया फिर हमारे एक दोस्त ने अपने घर से कार लेली और हम सब कार में बैठ कर रवाना होने के लिए तैयार हो गए मेरे घर सब दोस्त आ गए थे और मेरे घर से सिनेप्लस २५ किलोमीटर था फिर हम सब कार लेकर निकल चुके थे और हम सब १ घंटे के बाद सिनेप्लस पहुँच गए थे और वहाँ जाकर हम सब ने मूवी की टिकट खरीदी और हमारा मूवी का शो ९:३० से १२:३० बजे का था और हम सब ९:३० बजे मूवी देखने के लिए

सिनेप्लस के अंदर चले गए और मूवी स्टार्ट भी हो गयी और हम सब देखने लगे हमने बहुत ही एन्जॉय किया फिर इंटरवल पड़ा और हम सब फ्रेश होकर फिरसे मूवी देखने के लिए चले गए फिर हम सब मूवी का पूरा मजा लिया और मूवी ख़तम हो ने के बाद हम सब घर जाने लगे हम सब कार में बैठ कर घर आ रहे थे और रात के १ बज गए थे और रास्ता काफी सुनसान था हमारी गाड़ी रफ़्तार ८५ किमी थी और गाड़ी में ऐ.सी चल रही थी और म्यूजिक भी जोर जोर से बज रहा था हम सब मस्ती में थे तो फिर अचानक गाड़ी के १०० मीटर की दुरी पर एक खूबसूरत औरत लिफ्ट मांगने का इसरा कर रही थी मेरा एक दोस्त कार चला रहा था और में उसके बगल में बैठा था

औरत को देखते ही मेरे दोस्त गाड़ी धीरे करने लगा मेने कहा की आजकल हाईवे पर इस तरह से गाड़ी रुकवाकर लूट-पाठ की जा रही है इसलिए तुम गाड़ी मत रोकना परन्तु मेरा दोस्त ने मेरी बात मानी नहीं और उसने औरत के सामने गाड़ी जाकर रोक दी और पूछने लगा कहा जाने का है आपको औरत ने कहा आगे जाने का फिर मेरे दोस्त ने उसे पीछे बैठने को कहा और पीछे हमारे दो दोस्त और भी थे फिर उस औरत ने अपनी जगा करके पीछे बैठ गयी और कुछ देर तक सब कुछ सामान्य चल रहा था फिर अचानक उस औरत की जोर जोर से हसने की आवाज आने लगी फिर मेने और मेरे दोस्त ने पीछे मूड कर देखा था वो औरत नहीं थी परन्तु एक चुड़ैल थी

चुड़ैल की कहानी Chudel Ghost Stories

फिर मेरे दोस्त ने जोर से ब्रेक मारकर गाड़ी को रोक दिया उस औरत के लम्बे लम्बे बाल आगे की तरफ जुका रखे थे और बाल के बीचमे उसकी चमकती हुयी डरावनी आंखे दिखाई दे रही थी और उसके नाख़ून चाकू की तरह लम्बे थे और सरीर पर भी मर्दो की तरह बाल थे और हम वो देखकर बहुत ही दर गए थे और हमारी पिछली सीट पर जो दो फ्रेंड्स बैठे तो वो आगे आ गए थे और वो चुड़ैल पिछली सीट पर थी और अपने नाख़ून से हमारी गाड़ी की सीट फाड़ रही थी

हम सब तो डरे हुए थे फिर हम सब ने गाड़ी में उतर कर भाग ने का तय किया परन्तु उसने गाड़ी के सारे दरवाजा लॉक कर दिया था फिर हम सब ने हिम्मंत करके वहाँ रुकना तय किया और सब तो बहुत ही काँप रहे थे और सोच रहे थे के क्या करे फिर मेरे एक दोस्त ने अपने पाकिट से चामुंडा माता जी का फोटा निकला और उस फोटा में माताजी का पाठ भी था तो हम सब ने उसे पढ़ना तय किया हम सब साथ में पाठ पढ़ने लगे फिर वो चुड़ैल वहाँ से चली गयी और हम सब ने वहाँ से भाग ने का तय किया फिर और हम सब वहाँ से गाड़ी लेकर भाग गए परन्तु रस्ते में हमारी गाड़ी को तीन बार पंचर पड़ा था

हम सब जैसे तैसे करके रात को तीन बजे घर पहुंचे और घर पहुँच कर सब अपने अपने घर चले गए फिर में भी अपने घर चला गया में घर जाकर फर्श होकर सोने लगा परन्तु मुझे नींद नहीं आती थी क्यूंकि मुझे वो चुड़ैल ही दिखाई देती थी और में तीन दिन तक बीमार भी हो चूका था फिर बाद में सब कुछ सामान्य हो चूका था तो दोस्तों ये थी मेरे साथ घटित सच्ची घटना जो आपको मेरी ये कहानी अच्छी लगी तो उसे लाइक या कमेंट करके जरूर बताना तो दोस्तों में आपसे जाने की लिए इजाजत मांगता हु धन्यवाद ।

Key tag:

  • Real Ghost Stories
  • Bhoot Pret ki Sachhi Kahaniya
  • Ghost Stories
  • Real Ghost Chudel
  • real bhoot
  • chudel dayan ki kahani
  • चुड़ैल की कहानी
  • Real Chudel Story in hindi
  • Ghost Story
  • Real Ghost
  • hindi real ghost stories

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *